मंडियों में आज से खाद्यान्न आवक बंद… बढ़ सकती है महंगाई… कृषि शुल्क के विरोध में कारोबारी

झारखंड में कृषि उपज पर कृषि शुल्क लागू करने के विरोध में फेडरेशन आफ झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के सदस्यों ने पिछले एक माह से प्रदर्शन जारी रखा है। लेकिन इसके बाद भी सरकार द्वारा अब तक इसे संज्ञान में नहीं लिए जाने के विरोध में विवश होकर सोमवार से झारखंड में खाद्यान्न की आवक पूरी तरह से बंद करने का निर्णय लिया गया है। राजधानी रांची में खाद्य वस्तुओं की आवक बंद करने के निर्णयों को प्रभावी करने के लिए फेडरेशन चैंबर द्वारा लगातार प्रदर्शन किया जा रहा है। सभी व्यापारियों ने सर्वसम्मति से फेडरेशन के निर्णयों का कठोरता से पालन करने की सहमति भी जताई है।

बता दें कि आज से प्रदेश के सभी जिलों में खाद्य वस्तुओं की आवक बंद करने के लिए फेडरेशन चैंबर द्वारा राज्य के सभी जिला चैंबर आफ कामर्स, खाद्यान्न व्यवसायी, राइस मिलर्स एवं फ्लावर मिलर्स के साथ भी बैठक की गई थी। फेडरेशन चैंबर के आह्वान पर राज्य के सभी जिलों में इस निर्णय को प्रभावी बनाने की पहल जोर-शोर से प्रारंभ कर दी गई है। बता दें कि चैंबर के इस निर्णय के बाद आवश्यक सामग्रियों की आवक लगभग बंद हो जाएगी और इसका सीधा असर आम आवाम पर पड़ेगा। महंगाई के और बढऩे की संभावना है।

आवक बंद होने से जरूरी चीजों की बढ़ेंगी कीमतें

गत दिनों पंडरा बाजार में हुई बैठक के दौरान व्यापारियों ने कहा था कि हमने कोविड की विषम परिस्थितियों में भी अपने जानमाल की परवाह किए बगैर सरकार और प्रशासन का सहयोग करते हुए राज्य में खाद्य वस्तुओं की पर्याप्त उपलब्धता बनाई थी। लेकिन वर्तमान में सरकार और ब्यूरोक्रेट््स की हठधर्मिता के कारण हमें खाद्य वस्तुओं की आवक बंद करने का निर्णय लेना पड रहा है। जिससे जनता को भी परेशानी होगी। चूंकि कृषि शुल्क से खाद्य वस्तुओं की कीमतें बढेंगी इसलिए जनता को महंगाई से बचाने के लिए हमें कड़े निर्णय लेने पर विवश होना पड़ा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.