राजस्थान

थानाधिकारी जोगेन्द्र चौधरी थाने मे आते ही आए एक्शन मे,शास्त्रीनगर के पॉश इलाके में हुई डकैती का हुआ खुलासा, चार आरोपियो को लिया हिरासत में

शहर के 200 से अधिक सीसीटीवी केमरे खंगाले, टीम ने रात दिन किया काम आखिर मे पकड़े गए आरोपी

जोधपुर। किसी भी वारदात का खुलासा करने मे सबसे अहम भूमिका होती है उस थाने के मुखिया यानि थानाधिकारी की, हाल ही मे पदस्थापित हुए शास्त्रीनगर थाने के नए थानाधिकारी जोगेन्द्र सिंह चौधरी को आते ही इतना बड़ा चैलेन्ज मिला और उन्होने ओर उनकी टीम ने इस चेलेन्ज को स्वीकार करते हुए इसको पूरा भी किया।
ये था पूरा मामला-
11 नवंबर को शास्त्रीनगर निवासी अर्पित कोठारी ने रिपोर्ट पेश की जिसमे बताया गया था कि 11 नवंबर को रात करीब साढ़े आठ बजे एक व्यक्ति ने घर पर आया और पिज्जा ऑर्डर का बहाना बनाकर दरवाजा खुलवाया दरवाजा खुलते ही उसके साथ तीन अन्य व्यक्ति भी घर मे घुस गए और घर मे हथियारो द्वारा सभी को डराया और धमकाया मारपीट की और ढेढ़ लाख रूपये और दो महंगी अंगुठीया लूटकर ले गए जाते समय सभी के मोबाईल भी ले गए और बाहर जाकर मोबाईल फेंक दिए और एक कार मे सवार होकर फरार हो गए थे।
पुलिस ने की टीम गठित
इस प्रकरण का खुलासा करने के लिए सभी बड़े अधिकारियो के संरक्षण मे एसीपी नूर मोहम्मद एंव थानाधिकारी जोगेन्द्र सिंह चौधरी के नेतृत्व मे टीम का गठन किया गया जिसमे थानाधिकारी लिखमाराम, मुक्ता पारिक, पाना चौधरी, मनीष देव, डीएसटी प्रभारी भुपेन्द्र सिंह व सुनिता को सम्मिलित किया गया इन सभी के साथ शैतानसिंह उपनिरिक्षक, हेडकांस्टेबल तेजाराम, दिनेश, मजीद खां, दौलाराम, कमलेश, प्रेम चौधरी, कांस्टेबल धर्माराम व कानाराम ने सीसीटीवी खंगालने मे बहुत मेहनत की कई संग्दिधो से पूछताछ की अंत मे मात्र 18 दिनो मे इतनी बड़ी वारदात का खुलासा कर शास्त्रीनगर थानाधिकारी जोगेन्द्र सिंह ने अपराधियो को कड़ा संदेश दे दिया है कि क्षैत्र मे किसी भी तरह का अपराध बर्दाश्त नही किया जाएगा।

यह खबर आप mahekasansar.com पर पढ़ रहे है
इन्होने रची थी लूट की साजिश-
घटना की सूचना मिलते ही घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी केमरे खंगालने शुरू किए गए सभी रास्तो के सीसीटीवी खंगाले गए संदिग्ध लोगो व वाहनो की तलाशी ली गई हाईवे, होटलो व नाको पर जांच करवाई गई संभावित स्थानो पर दबिश भी दी गई आदतन अपराधियो व हाल ही मे रिहा हुए लोगो से पूछताछ की गई पूरी टीम के भरसक प्रयासो के बाद अनिल उर्फ भाहला निवासी झालामण्ड, इस्माईल उर्फ पठान निवासी झालामण्ड, सुनिल सिंह निवासी झालामण्ड एंव जसवन्त सिंह गहलोत कमलानेहरू कॉलोनी के रहने वालो को ईसाईयो के कब्रिस्तान से दस्तयाब कर पूछताछ की गई तो पता चला की घटना का मुख्य सूत्रधार पहले अर्पित कोठारी के ऑफिस मे कार्य करता था उसी ने पूरी साजिश रचकर अपराध को अन्जाम दियर पुलिस की पूरी टीम ने कड़ी मेहनत की जिससे इससे पूरे मामले का पटाक्षेप हुआ।

Breaking News

prev next

Advertisements

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Our Visitor

1609508