जोधपुर राजस्थान शिक्षा-साहित्य-कला

राष्ट्रीय शिक्षा नीति हर मायने में ऐतिहासिक: राजेन्द्र गहलोत

जोधपुर। राष्ट्रीय शिक्षा नीति हर मायने में ऐतिहासिक है । जितना राय मशविरा इसे लाने से पहले किया गया है वह पहले कभी नहीं हुआ। यह विचार राज्यसभा सांसद राजेन्द्र गहलोत ने पत्रकारों से बात करते हुए व्यक्त किये । राजेन्द्र गहलोत ने बताया कि केंद्र सरकार की कैबिनेट ने 29 जुलाई को ‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020’ को मंजूरी दी है। नई शिक्षा नीति 34 वर्ष पुरानी ‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 1986’ National Policy on Education (NPE),1986 को प्रतिस्थापित करेगी। गहलोत ने कहा कि लाखों की तादाद में ग्राम पंचायतों, हजारों की तादाद में ब्लॉक स्तर और सैकड़ों की तादाद में जिला स्तर पर इस पूरे विषय पर चर्चा की गई और तब कहीं जाकर इसे अंतिम रूप दिया गया।अलग-अलग राज्य सरकारों से भी इस पर राय मांगी गई थी और उन्होंने भी अपने राज्य के अनुसार इस नीति में सुझाव दिए। गहलोत ने कहा कि इससे ज्यादा समावेशी राष्ट्रीय शिक्षा नीति हो ही नहीं सकती थी । प्रधानमंत्रीजी के नेतृत्व में इस शिक्षा नीति को लाने वाली सम्पूर्ण टीम को बधाई देते हुए गहलोत ने आशा व्यक्त की कि नई शिक्षा नीति छात्रों को जरूरी कौशल एवं ज्ञान से प्रशिक्षित करेगी । विज्ञान, टेक्नोलॉजी, अकादमिक क्षेत्र और इंडस्ट्री में लोगों की कमी को दूर बनाने में बड़ा सहयोग मिलेगा। 34 वर्ष की प्रतीक्षा के बाद आई नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति मोदी सरकार की शिक्षा के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाती है। यह नीति सम्पूर्ण समाज के पिछड़े व अंतिम व्यक्ति तक शिक्षा एवं शिक्षा गुणवत्ता को पहुंचाने में मील का पत्थर साबित होगी।

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Our Visitor

1339598

Advertisements