slider राजस्थान सिरोही

खबर का असर: एक माह बाद मनरेगा कार्य हुआ शुरू, ग्रामीणों को मिला रोजगार

लगातार खबर प्रकाशित करने के बाद ग्राम पंचायत प्रशासन आया हरकत में,
पोयणा में 14,5 लाख गवाई नाडी कार्य हुआ स्वीकृत
सुमेरपुर। सुमेरपुर उपखंड क्षेत्र के ग्राम पंचायत बामनेरा के गांव पोयणा में पिछले लगभग  एक माह  के बाद मनरेगा कार्य बुधवार को शुरू हुआ। ग्राम पंचायत की लापरवाही के कारण पिछले लंबे समय से मनरेगा कार्य बंद पड़ा था,जिसको लेकर ग्रामीणों में काफी रोष था । कोरोना संकट में ग्रामीणों को एक माह से अधिक दिन तक खाली हाथ बैठना पड़ा। अन्य मजदूरी के लिए तरसते रहे कोरोना के कारण दूसरी जगह भी रोजगार नहीं मिला । लंबे समय के बाद ग्रामीणों को मनरेगा में रोजगार मिलने के पश्चात चेहरे पर खुशी देखने को मिली। पिछले लंबे समय से मनरेगा कार्य बंद होने के चलते ग्रामीणों की आवाज को बार-बार समाचारों के माध्यम से उठाने के बाद ग्राम पंचायत प्रशासन हरकत में आया,तब जाकर  पंचायत प्रशासन ने ताबड़तोड़ दूसरे  कार्य स्वीकृत करवाने  के लिए प्रस्ताव लेकर जिला परिषद पाली को  भेजने के बाद गवाई नाडी खुदाई  कार्य स्वीकृत हुआ। ग्राम विकास अधिकारी निंबाराम ने बताया कि गांव पोयणा में लगभग 8 साल पहले बाढ़ बचाव कार्य स्वीकृत हुआ था जोकि दो माह पहले बजट  पूरा हो गया इसलिए दूसरा कार्य स्वीकृत करवाने के लिए लेट हुआ । उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत द्वारा पोयणा गवाई नाडी खुदाई का प्रस्ताव बनाकर जिला परिषद कार्यालय को प्रेषित करने के बाद 14.5 लाख कार्य स्वीकृत करवाया। जहां 83 लोगों का मिस्टोल जारी कर गवाई नाडी खुदाई कार्य शुरू किया गया ।ग्रामीणों के लिए महात्मा गांधी नरेगा योजना वरदान साबित हो रही है। लॉकडाउन के दौरान स्थानीय स्तर पर  ग्रामीणों को रोजगार मिलने से आर्थिक संबल मिला है।

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Our Visitor

1360716

Advertisements