राजस्थान

प्रेस मालिकों को मुद्रण सामग्री के लिए आवश्यक निर्देश

जालोर। जिला मजिस्ट्रेट हिमांशु गुप्ता ने जिले में पंचायत आम चुनाव-2020 के तहत पेम्पलेट, पोस्टर एवं अन्य प्रकार की मुद्रण सामग्री के सम्बन्ध में जिले की समस्त प्रिन्टिंग प्रेसों के मालिकों को निर्देशित किया है कि चुनाव से सम्बन्धित प्रकाशित व मुद्रित सामग्री का निर्धारित प्रपत्र में इन्द्राज कर मय चार मुद्रित सामग्री की प्रतियां मुद्रण के तीन दिवस के भीतर जिला मजिस्ट्रेट को अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करना सुनिश्चित करें।
          जिला मजिस्ट्रेट हिमांशु गुप्ता ने जिले की समस्त प्रिन्टिंग प्रेस के मालिकों को निर्देशित किया कि राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा पंचायत आम चुनाव-2020 की घोषणा के साथ ही आदर्श आचार संहिता भी प्रभावी हो चुकी हैं। जिसके तहत लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 127-क के अन्तर्गत चुनाव प्रचार-प्रसार प्रयोजनार्थ विभिन्न राजनैतिक दलों, अभ्यर्थियों, उनके समर्थकों व कार्यकर्ताओं, व्यक्तियों, संगठनों तथा संस्थाओं द्वारा ऐसे पेम्पलेट, पोस्टर, विज्ञापन, हैंडबिल आदि प्रकाशित कराने के लिए मुद्रित कराया जाना संभावित है जो किसी राजनैतिक दल या अभ्यर्थी के पक्ष में या विपक्ष में चुनाव अभियान को प्रोत्साहित करने वाले हो सकते है। ऐसे पेम्पलेट पोस्टरों इत्यादि के मुद्रण पर नियन्त्रण पर जारी निर्देशों की पालना सुनिश्चित करें।
          उन्होंने निर्देशित किया कि कोई भी व्यक्ति किसी ऐसे निर्वाचन पेम्पलेट या पोस्टरों को प्रकाशित या मुद्रित नहीं करेगा या प्रकाशित नहीं करायेगा जिसके मुख पर उसके मुद्रक और प्रकाशक का नाम और पता न दिया हो। कोई भी व्यक्ति किसी निर्वाचक पेम्पलेट या पोस्टर का मुद्रण तब तक नहीं करेगा या करवायेगा जब तक उसके प्रकाशक के पहचान की घोषणा उसके द्वारा हस्ताक्षरित और दो व्यक्तियों द्वारा जिनको वह व्यक्तिगत रूप से जानता हो, सत्यापित कर दो प्रतियों में उसके द्वारा मुद्रक को नहीं दी जाती और जब तक कि दस्तावेज के मुद्रण के पश्चात् युक्तिसंगत समय के भीतर घोषणा की एक प्रति दस्तावेज की एक प्रति के साथ मुद्रक द्वारा जहाँ वह मुद्रित हुआ हो उस राज्य की राजधानी के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को और किसी अन्य मामले में उस जिले के जिला मजिस्ट्रेट को जहाँ वह मुद्रित किया गया हो, भेज न दिया जायें।
             जिला मजिस्ट्रेट ने निर्देशित किया कि धारा 127-क  के प्रावधानों की अपेक्षानुसार यह सुनिश्चित किया जाये कि मुद्रित करवाई जाने वाली प्रत्येक निर्वाचन पेम्पलेट, पोस्टर या ऐसी अन्य सामग्री पर मुद्रकीय हाशियों में उसके मुद्रक एवं प्रकाशकों के नाम एवं पत्ते स्पष्ट रूप से अंकित किये जावें। किसी भी निर्वाचक पेम्पलेट, पोस्टर इत्यादि के मुद्रण के कार्य को लेने से पूर्व धारा 127क की (2) की शर्तों के अनुसार परिरिष्ट-क में विहित प्रपत्र में प्रकाशक से घोषणा पत्र प्राप्त की जावें। धारा 127 क (2) के अधीन अपेक्षित प्रकाशक द्वारा प्राप्त की गई परिशिष्ट-क में घोषणा और मुद्रित सामग्री की चार प्रतियां उसके मुद्रित किये जाने के तीन दिवसों के भीतर जिला मजिस्ट्रेट को प्रेषित की जावें। इसी प्रकार मुद्रित दस्तावेजों की प्रतियों की संख्या और ऐसे  कार्य के लिए कीमत से सम्बन्धित सूचना भी अनिवार्य रूप से भिजवानी होगी। उक्त निर्देशों का उल्लंघन या अतिक्रमण किये जाने पर निर्वाचन नियमों के अन्तर्गत कार्यवाही की जावेगी जिसमें मुद्रणालयों के अनुज्ञा पत्र को समाप्त भी किया जा सकेगा इसलिए इसकी पालना सुनिश्चित करें।

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Our Visitor

1345000

Advertisements