राजस्थान

समाजसेवी हक़ ने इंसानियत और साम्प्रदयिक सद्भाव की मिसाल पेश की

जोधपुर। देश की सांस्कृतिक राजधानी माने जाने वाले जोधपुर में आज एक बार फिर इंसानियत और सांप्रदायिक सद्भाव की अनूठी मिसाल देखने को मिली। एक हिंदू परिवार के वृद्ध को प्लाज्मा की सख्त आवश्यकता थी और वह इसके लिए काफी शिद्दत से प्रयासरत थे लेकिन कहीं से प्लाज्मा की व्यवस्था नहीं हो पा रही थी। ऐसे में एक मुस्लिम ने अपने प्लाज्मा डोनेट करके ना केवल इस वृद्ध की जान बचाई बल्कि सांप्रदायिक सद्भाव और इंसानियत की मिसाल भी पेश की।
शहर के राजदादीजी अस्पताल में भर्ती मांगू सिंह को सांस लेने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ रहा था, डॉक्टरों ने कोरोना की आशंका जताते हुए उन्हें प्लाजमा थेरेपी देने के लिए सलाह दी। वृद्ध के परिजनों ने प्लाज्मा के लिए काफी प्रयास किया और वे राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी सीमा कविया को अवगत कराया । सीमा कविया ने अताउल हक़ को प्लाज्मा देने के लिए प्रेरित किया
हक़ ने तुरंत मथुरादास माथुर अस्पताल जाकर अपने प्लाज्मा डोनेट किए और सांप्रदायिक सद्भाव व इंसानियत की मिसाल पेश की । कहते हैं कि ब्लड बैंक में किसी का धर्म नहीं पूछा जाता और यही बात इस मामले में भी सच साबित हुई

About the author

Maheka Sansar

Maheka Sansar

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Our Visitor

1360711

Advertisements