जोधपुर राजस्थान

डॉ. समित शर्मा के स्थानांतरण से जोधपुर की जनता दुःखी, सोशल मीडिया पर छाए रहे दिन भर

स्थानांतरण को लेकर जोधपुर की जनता में सरकार के प्रति रोष
जोधपुर। डॉ. समित शर्मा जहाँ भी जाते है अपने कार्यो को लेकर एक अमिट छाप छोड़ जाते है ऐसे ही कुछ कार्य डॉ. शर्मा ने जोधपुर में कर डाले है जिसको जोधपुर की जनता याद कर रही है इतने कम समय में जोधपुर से डॉ. शर्मा के स्थानांतरण को लेकर जोधपुर की जनता में रोष व्याप्त है। डॉ. समित शर्मा ने 7 जुलाई को जोधपुर में कार्यभार ग्रहण किया था उसके बाद वह बिल्कुल बैठे नही इन्होंने वृक्षारोपण का अभियान चलाया और खुद मौजूद रहकर कई जगह वृक्षारोपण किए।

औचक निरीक्षण से कामचोर लोग थे परेशान
डॉ. समित शर्मा की कार्यशैली से सभी वाकिफ है ये खाली बैठने वालों में से नही है डा. समित शर्मा ने जोधपुर संभाग के कई अस्पतालों के औचक निरीक्षण किए और समय पर नही आने वालों पर विभागीय कार्यवाही की वहीं कई सरकारी विद्यालयों का भी औचक निरीक्षण किया जिसमें कईयों के खिलाफ जांच बिठाई गई जिससे कई लोग नाराज भी हुए जो लोग काम करना नही चाहते फ्री की तनख्वाह लेना चाहते है उनको तो बुरा लगेगा ही। लेकिन स्थानान्तरण से क्या फर्क पड़ना है काम करने वालो के स्थानांतरण होते रहते है लेकिन काम करने वाले जहां जाते है वहां जनहित में काम करते रहते है।

सोशल मीडिया पर सरकार की किरकिरी
जैसे ही लोगो को डॉ. समित शर्मा के स्थानांतरण की जानकारी मिली लोगो की प्रतिक्रियाए आनी शुरू हो गई सोशल मीडिया पर लोगो ने बताया कि ये जोधपुरवासियों की बदकिस्मती है कि इतने वर्षों बाद कोई काम करने वाला अधिकारी आया और मात्र चार महीने बाद ही स्थानांतरण कर दिया गया ये सरकार की मनमानी है लोग सवाल उठा रहे है कि क्या मुख्यमंत्री के जिले में विकास नही होना चाहिए, क्या मुख्यमंत्री के जिले में भ्रष्टाचार नही मिटना चाहिए, क्या मुख्यमंत्री के जिले में जवाबदेह प्रशासन नही चाहिए इन सब के लिए डॉ. समित शर्मा को यहाँ होना चाहिए था हालांकि स्थानान्तरण एक साधारण प्रकिया है लेकिन चार महीने बाद ही स्थानांतरण होना एक साधारण बात नही है आम लोगों ने स्थानांतरण रोकने की भी मांग की है।

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Our Visitor

1414563

Advertisements