चूरू जयपुर जोधपुर ताज़ा खबर भीलवाड़ा राजनीति राजसमंद

महका संसार का एग्जिट पोल रहा 100% सटीक: सुजानगढ़ में कांग्रेस के मनोज, सहाड़ा में गायत्री जीते, राजसमंद में भाजपा की दीप्ति की जीत

  • दैनिक महका संसार ने 18 अप्रैल को अपने एग्जिट पोल में बताया था, तीनों सीटों का सटीक आकलन, परिणाम भी 100% वही आया
  •  महका संसार: राजस्थान का एकमात्र ऐसा अखबार, जिसका एग्जिट पोल रहा बिल्कुल सही, 32 लोगों की एक्सपर्ट टीम ने दिया था इसे सफलतापूर्वक अंजाम

जयपुर/जोधपुर। प्रदेश की तीन सीटों पर 17 अप्रैल 2021 को हुए विधानसभा उप चुनावों का परिणाम 2 मई को आ गया। इनमें से दो सीटों पर कांग्रेस, एक पर भाजपा जीती है। नतीजों की बात करें तो सुजानगढ, सहाड़ा सीट पर कांग्रेस  के प्रत्याशी जीते हैं और राजसमंद में भाजपा ने जीत हासिल की। सुजानगढ़ सीट से कांग्रेस उम्मीदवार मनोज मेघवाल करीब 35,500 वोट के अंतर से जीते हैं। सहाड़ा से कांग्रेस उम्मीदवार गायत्री त्रिवेदी ने सबसे बड़ी जीत दर्ज की है, जबकि राजसमंद से भाजपा उम्मीदवार किरण माहेश्वरी की बेटी दीप्ति माहेश्वरी की जीत का अंतर सबसे कम रहा है। इनमें सबसे रोचक बात यह भी रही कि तीनों सीटों पर हनुमान बेनीवाल की पार्टी रालोपा का भी प्रदर्शन बेहद दमदार रहा है।

एकमात्र अखबार: महका संसार की रिपोर्ट रही सबसे सटीक

तीनों विधानसभा उप चुनावों को लेकर जहां राजस्थान के बड़े बड़े मीडिया संस्थानों ने अलग अलग दावे किए थे वहीं दैनिक महका संसार ने स्पष्ट रूप से 18 अप्रैल को “सुजानगढ़ और सहाड़ा में कांग्रेस आगे, राजसमंद में भाजपा का असर, कोरोना ने रोका बड़ी जीत का अंतर” शीर्षक से पूरी रिपोर्ट प्रकाशित की थी। यह रिपोर्ट व एग्जिट पोल एक दम सही साबित हुए। उल्लेखनीय है कि दैनिक महका संसार एकमात्र ऐसा अखबार है जिसने तीनों सीटों पर 32 लोगों की टीम लगाकर बूथवार सर्वे  कराया था। यह सर्वे कार्य जनवरी माह से शुरू किया गया था। सर्वे कार्य के बाद उसी टीम ने बूथवार जाकर वापस चुनावों की स्थिति देखी और मतदाताओं के मन की बात को भांपा।

तीनों सीटों पर नतीजों का चक्र कुछ इस तरह चला

  1. सुजानगढ़: (कांग्रेस के मनोज मेघवाल जीते)
    सुजानगढ़ सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी मनोज मेघवाल ने भाजपा के खेमराराम मेघवाल को 35,500 वोटों से हराया है। मनोज मेघवाल को 78,842 वोट मिले। भाजपा उम्मीदवार खेमराम मेघवाल को 43,424 वोट और हनुमान बेनीवाल की आरएलपी के सोहनलाल नायक को 31993 वोट मिले हैं। काउंटिंग के कई राउंड में हनुमान बेनीवाल की आरएलपी ने भाजपा को पछाड़कर तीसरे नंबर पर पहुंचा दिया था। हालांकि, बाद में भाजपा दूसरे नंबर पर पहुंच गई। इस सीट पर हनुमान बेनीवाल ने अकेले जितनी मेहनत की उतनी मेहनत भाजपा के किसी नेता ने नहीं की। देखा जाए तो सुजानगढ़ में भाजपा ने 12 अप्रैल को ही अपनी हार मान ली थी। इस सीट पर 12 अप्रैल के बाद से भाजपा नेताओं का प्रचार कम हो गया था तो वहीं किसान आंदोलन में शामिल युवाओं से मारपीट का मामला भी भाजपा को नुकसान पहुंचा गया। 

2. सहाड़ा: कांग्रेस की गायत्री देवी की जीत में पिथलिया-बेनीवाल फेक्टर
सहाड़ा सीट पर दिवंगत कांग्रेस विधायक की पत्नी गायत्री त्रिवेदी ने भाजपा उम्मीदवार डॉ. रतनलाल जाट को 42,099 वोटों से हराया। गायत्री देवी को 81,252 वोट मिले जबकि भाजपा के रतनलाल जाट को 39052 और आरएलपी उम्मीदवार बद्रीलाल जाट को 12,175 वोट मिले। पहले राउंड से ही गायत्री त्रिवेदी आगे रहीं हैं। भाजपा के बागी लादूलाल पितलिया को जबरन चुनावी मैदान से हटाने के मुद्दे से भाजपा को भारी नुकसान हुआ है। हनुमान बेनीवाल की रालोपा के प्रत्याशी बद्रीलाल जाट की वजह से भाजपा के प्रति चल रही वोटर्स की सोच भी बदल गई। हालांकि यहां कांग्रेस को कांग्रेस का ही एक धड़ा पूरी तरह से हराने में लगा हुआ था, मगर उसकी चाल फैल हो गई। वसुंधरा राजे को भी उप चुनावों से दूर रखना भाजपा के लिए बेहद नुकसानदायक रहा।

3. राजसमंद: दीप्ति माहेश्वरी: वसुंधरा राजे के पोस्टर का सहारा मिल गया

भाजपा ने उप चुनाव में जो वसुंधरा राजे को दूर रखा था। मगर राजसमंद में दीप्ति माहेश्वरी व उनकी टीम ने वसुंधरा राजे के पोस्टर का सहारा ले जीत हासिल कर ली।
राजसमंद सीट पर दिवंगत किरण माहेश्वरी की बेटी और भाजपा उम्मीदवार ​दीप्ति माहेश्वरी ने कांग्रेस उम्मीदवार तनसुख बोहरा को 5310 वोटों से हराया है। दीप्ति माहेश्वरी को 74,704 यानी 49% वोट मिले जबकि तनसुख बोहरा को 69,394 यानी 46% वोट मिले हैं। इस चुनाव में तीसरे स्थान पर नोटा रहा जिसे कुल 1586 वोट पड़े।
भाजपा-आरएसएस के गढ़ राजसमंद में दिवंगत किरण माहेश्वरी की बेटी को जीतने के लिए इतना संघर्ष करना पड़े, यह इसलिए चौंकाने वाला है कि यहां भाजपा के पास कोई प्लान नहीं था। प्रदेश संगठन की जो टीम थी वह सिर्फ यहां पर प्रचार करके निकल जाती, रणनीति बनाने वाली टीम तीनों विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा के पास नहीं दिखी।

किस दल को मिले कितने प्रतिशत वोट
नतीजों के मुताबिक, तीनों सीटों पर कांग्रेस को सबसे ज्यादा 48.7% वोट मिले। जबकि भाजपा को 37% और निर्दलीय समेत अन्य दलों को 12.93% वोट पड़े हैं। इस बार नोटा का बटन भी करीब 1.35% वोटर्स ने दबाया है।

महका संसार की टीम ने ऐसे ग्राउंड पर किया काम

दैनिक महका संसार की 32 लोगों की टीम ने पॉलीटिक्ल संपादक इन्शाद खान व प्रधान संपादक इम्तियाज अहमद के नेतृत्व में तीनों विधानसभा सीटों पर बारीकी से सर्वे कार्य किया। निष्पक्ष व सटीक सर्वे रिपोर्ट सामने कैसे आए इसके लिए तीनों विधानसभा सीटों के करीब 750 से ज्यादा बूथों पर जाकर प्रमुख लोगों व आम मतदाता से बात की। इस दौरान महका संसार की टीम ने पूरी तरह से राजनीतिक दलों के लोगों से दूरी बनाए रखी। सर्वे में सिर्फ आम मतदाताओं से ही बात की गई। जनवरी में सर्वे कार्य करने के बाद 750 बूथों पर सर्वे टीम ने जो रिपोर्ट दी उसके बाद चुनाव प्रचार के बीच उन बूथों पर वापस टीमें भेजी गई। बूथों पर क्या बदला और क्या मतदाता ने नई सोच डवलप की उस की जानकारी जुटाई गई। इसके बाद भौगोलिक हालात, अंकगणित, पॉलीटिक्ल थॉट, पॉलीटिशियन वर्किंग, प्रजेंट पॉजीशन के तथ्यों पर काम करते हुए  सर्वे रिपोर्ट तैयार करके एग्जिट पोल का निष्कर्ष निकाला गया।

यह पहली बार है कि किसी चुनाव में किसी अखबार द्वारा बारिकी से नजर रखकर 100% सटीक एग्जिट पोल रिपोर्ट तैयार की गई हो।

About the author

Maheka Sansar

Maheka Sansar

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Posts

Our Visitor

1511819

Advertisements