COVID-19 ताज़ा खबर नागौर राजस्थान

#नागौर: अमृत मिशन योजना में ढिलाई, कलेक्टर हुए नाराज़

नहर बंदी व ग्रीष्म काल में जलापूर्ति तथा जल जीवन मिशन के तहत कार्यों की जिला कलेक्टर नागौर द्वारा समीक्षा

नागौर शहर में जलदाय विभाग एवं नगर परिषद के अधिकारी टेल एंड तक सुचारू पेयजल आपूर्ति के लिए सतत समन्वय से कार्य करें

नागौर। जिला कलेक्टर नागौर डॉ जितेंद्र सोनी ने इंदिरा गांधी नहर की बंदी के दौरान शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में टेल एंड तक सुचारू पेयजल आपूर्ति के लिए पीएचईडी के अधिकारियों को निर्देशित किया कि नहरबंदी के दौरान पेयजल सम्बंधी व्यवस्थाओं की निरंतर मॉनिटरिंग करे ताकि लोगों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो। गर्मी के बढ़ते प्रभाव और कोरोना के कारण उपजी परिस्थितियों को देखते हुए आने वाला समय चुनौतीपूर्ण है। ऐसे में नहरबंदी को देखते हुए जलदाय के अधिकारी सर्तकता और सजगता के साथ पेयजल प्रबंधन की जिम्मेदारी निभाएं। उन्होंने पेयजल की गुणवत्ता पर भी बराबर फोकस करने के निर्देश दिए।

डॉ जितेंद्र सोनी ने कहा कि जलदाय विभाग की ओर से गर्मिर्यों में कंटीजेंसी प्लान और टैंकर्स के माध्यम से जल परिवहन व्यवस्था (टीओडब्ल्यू-ट्रांसपोर्टेशन ऑफ वाटर) के लिए आवश्यक स्वीकृतियां पहले जारी की जा चुकी है। जिले में कंटीजेंसी प्लान के तहत स्वीकृत कार्यों को निर्धारित समयावधि में पूरा कर लोगों को गर्मी के मौसम में राहत दी जाए। साथ ही नए निर्मित नलकूपों व बरनावा पम्पिंग स्टेशन का विद्युत विभाग द्वारा शीघ्र विद्युतीकरण करने लिए निर्देशित किया जाएगा।

नागौर शहर में पेयजलापूर्ति को सुचारू रखने के लिए व लोगों द्वारा बताई जा रही विभिन्न समस्याओं के शीघ्र समाधान के लिए नगर परिषद के अधिकारियों को सतत रूप से तत्परता के साथ कार्य करने के लिए निर्देशित किया।

शहर में अमृत मिशन के तहत चल रहे कार्यों की प्रगति पूर्व में दिए गए निर्देशानुसार नहीं होने पर कलेक्टर महोदय द्वारा नाराजगी जाहिर की गई व फर्म के विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही करने के लिए निर्देशित किया गया व शेष रहे कार्यों को शीघ्र पूर्ण करने के लिए कहा गया। उन्होंने सभी अधिकारियों को आने वाले दिनों में सक्रियता को जारी रखने और अलर्ट मोड पर रहते हुए पेयजल व्यवस्था से सम्बंधित प्रत्येक प्रकरण का आपसी समन्वय से तत्काल निराकरण करने के निर्देश दिए।


जिला जल व स्वच्छता समिति की बैठक में जल जीवन मिशन के तहत करवाये जा रहे कार्यों के बारे में जगदीश चंद्र व्यास, सचिव व अधीक्षण अभियंता जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग नागौर द्वारा बताया गया कि इस वर्ष लक्ष्य के अनुरूप ग्रामीण क्षत्रों में जल संबंध जारी करने के लिए रेगुलर वृत व परियोजना वृत द्वारा प्राप्त प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति के बाद तकनीकी स्वीकृति व निविदा सम्बन्धित कार्य समय पर पूर्ण कर कार्य प्रारंभ कर दिए जाएंगे। साथ ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों, आंगनबाड़ी केंद्रों, ग्राम पंचायत भवनों, स्वास्थ्य केंद्रों व सरकारी कार्यालयों को भी पेयजल उपलब्ध करवाने के लिए पाइप लाइन बिछा कर जल संबंध जारी किए जाएंगे। जिला कलेक्टर द्वारा अधिकारियों को कोविड गाइडलाइन्स की पालना करते हुए निर्धारित लक्ष्यों प्राप्त सतत कार्य करने के लिए निर्देशित किया गया।

बैठक में जगदीश चंद्र व्यास, अधीक्षण अभियंता, महेंद्र प्रकाश सोनी, अधीक्षण अभियंता, श्रवण राम चौधरी, कमिश्नर नगर परिषद नागौर तथा जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग व नगर परिषद नागौर के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

About the author

Maheka Sansar

Maheka Sansar

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Posts

Our Visitor

1511812

Advertisements