ताज़ा खबर बंगाल/कोलकाता राजस्थान

#ममता_बनर्जी ने विरोधी दल लेफ्ट पर खाया तरस, बंगाल की राजनीति में आने वाले दिनों में देखने को मिल सकता है बदलाव

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में लेफ्ट फ्रंट के सफाए के बाद उनके लिए हमदर्दी वहां से आई है, जहां से वामपंथियों ने कभी उम्मीद नहीं की होगी। बंगाल में 10 साल पहले लेफ्ट पार्टियों के 34 साल पुराने शासन को उखाड़ने वालीं ममता बनर्जी ने कहा है कि वह उन्हें इस हालत में नहीं देखना चाहतीं। उन्होंने कहा, ”मैं राजनीतिक रूप से उनका विरोध करती हूं, लेकिन उन्हें शून्य नहीं देखना चाहती।” ममता ने यह भी कहा कि वह बीजेपी से बेहतर लेफ्ट को मानती हैं।

ममता ने कहा, ”वाम दलों के साथ राजनीति मतभेद हैं, लेकिन मैं उन्हें शून्य पर पहुंचता नहीं देखना चाहती। बेहतर होता कि वे भाजपा से अपना वोट वापस हासिल कर लेते। उन्होंने भाजपा को इस कदर फायदा पहुंचाया कि आज वे शून्य हो गए। उन्हें इस बारे में सोचने की जरूरत है। दीपांकर भट्टाचार्य (भाकपा माले) इस रास्ते पर नही चले।”

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने दावा किया कि वाम दल अपना वो वोटबैंक वापस हासिल नहीं कर पाए जो उन्होंने भाजपा के हाथों खो दिया है और इस वजह से वामपंथी दलों की स्थिति में और गिरावट आ गई।

आजादी के बाद यह पहली बार है जब 294 सीटों वाली विधानसभा में कांग्रेस या वाम दलों का एक भी विधायक नहीं होगा। दोनों ही पार्टियों ने यहां दशकों तक शासन किया है, लेकिन अब उनकी जगह बीजेपी ने ले ली है। रविवार को घोषित चुनाव नतीजों में बीजेपी को 77 सीटें मिली हैं तो 213 सीटों पर कब्जा जमाकर टीएमसी लगातार तीसरी बार सत्ता में आई है।

वाम नेताओं ने पार्टी के प्रदर्शन को एक तबाही कहा है। कई नेताओं ने माना है कि आईएसएफ से गठबंधन का खामियाजा भी भुगतना पड़ा है। माना जा रहा है कि राज्य में बीजेपी की जीत की संभावना को देखते हुए मुसलमानों ने एकमुश्त ममता बनर्जी की पार्टी को वोट किया है। कांग्रेस के गढ़ मुर्शिदाबाद और मालदा में भी टीएमसी को ही जीत मिली है।

About the author

Maheka Sansar

Maheka Sansar

Breaking News

prev next

Advertisements

E- Paper

Advertisements

Posts

Our Visitor

1511831

Advertisements