मिलावट के संदेह में मरुधरा ब्रांड के घी के लिए सैंपल, 313 किलो वनस्पति एवं 90 किलो पामोलिन तेल को किया सीज

जालोर। प्रदेश के चिकित्सा मंत्री गजेंद्र सिंह खींवसर ने अधिकारीयो को स्पष्ट रूप से निर्देश दिए हैं कि कोई भी मिलावटखोर को बचना नहीं चाहिए। इसी के तहत प्रदेश भर में मिलावट के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। शुद्ध आहार मिलावट पर वार अभियान के तहत जालौर शहर में खाद्य सुरक्षा दल द्वारा विभिन्न खाद्य पदार्थों के सैंपल लिए हैं।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर रमाशंकर भारती ने बताया कि जिला कलेक्टर पूजा पार्थ के निर्देशन में खाद्य सुरक्षा दल ने शहर में खाद्य प्रतिष्ठानों में मिलावट के संदेह पर यह कार्यवाही की गई है।

खाद्य सुरक्षा अधिकारी हनवंत सिंह ने बताया कि सिरे मंदिर रोड पर स्थित आसन पोल के पास आशापुरा ऑयल कॉर्पोरेशन की दुकान में वनस्पति का नमूना लिया एवं मिलावट के संदेश के आधार पर 313 किलो वनस्पति को सीज किया गया है वहीं सामति पूरा रोड पर स्थित जय श्री सुंधा माता जनरल स्टोर से पामोलिन रिफाइंड तेल का नमूना लेकर 90 किलो पामोलिन तेल को सीज कर दिया गया एवं जांच रिपोर्ट आने तक विक्रय नहीं करने के लिए पाबंद किया गया है।

इसके अलावा जालोर शहर में नमकीन कचोरी निर्माण इकाई पर कार्यवाही करते हुए खाद्य तेल के सैंपल लिए गए हैं। उन्होंने बताया कि खाद्य तेल का बार-बार लंबे समय तक गर्म कर उपयोग करने से उनके पोषक तत्व स्वाद के लिए हानिकारक तत्वों में बदल जाते हैं जैसे ट्रांस फैट बढ़ जाता है जिससे हृदय रोग होने की संभावना अधिक रहती है। टीम द्वारा चामुंडा स्वीट कॉर्नर से यूज्ड कुकिंग ऑयल एवं लड्डू, रिलायंस रिटेल शॉप से घी ब्रांड मरूधरा और गहलोत जूस एंड कोल्डड्रिंक से गन्ना जूस के सैंपल लिए गए हैं कार्रवाई के दौरान टीम के सदस्य सहायक कर्मचारी महेंद्र सिंह भी मौजूद थे।